Theme images by Storman. Powered by Blogger.

Follow by Email

Ajee sunte ho...?

*"ओम्"* के उच्चारण से दिमाग की *कुछ ही नसें* जागृत होती है...


जबकि


*"अजी सुन रहे हो"* सुनते ही *संपूर्ण* मस्तिष्क ही जागृत हो जाता है...


और कई बार तो रूह तक भी कांपने लगती है।

😳😜😳