Har Sharaabi Ki Kahaani

, , Leave a comment

सोचा था 2 पेग मार के 10 बजे तक घर पहुँच जाऊंगा,

साले, ये पेग और टाइम

कब आपस में बदल गए पता ही नहीं चला।

 

Reactions